Raj Bhasha

www.rajbhasha.nic.in

राजभाषा

केन्द्रीय विद्यालय कोरापुट प्रशासनिक, प्रबंधकीय एवं शैक्षिक स्तर पर राजभाषा हिंदी के अधिकाधिक प्रयोग हेतु कटिबद्ध है | गैर-हिंदीभाषी क्षेत्र में होने के बावजूद विद्यालय परिसर में हिंदी का समुचित परिवेश है | जिससे छात्रों में औपचारिक एवं अनौपचारिक दोनों ही रूपों में हिंदी का विकास हो रहा है |विद्यालय में राजभाषा हिंदी के प्रगामी प्रयोग हेतु एक समिति का गठन किया गया है | जिसकी नियमित बैठकें आयोजित कर संगठन के निर्देशानुसार निर्णय लेकर उन्हें यथार्थ रूप दिया जाता है | विद्यालय में राजभाषा हिंदी के गतिविधियों के लिए एक समिति गठित की गयी है I जिसके सदस्य क्रमश: श्री अमित कुमार सिंह , श्री पुरुषोत्तम साहु, श्रीमती प्रभा कुमारी चाँद, श्री रमेश और श्री तरुण कुमार दाश हैं |

केन्द्रीय विद्यालय कोरापुट राजभाषा अधिनियम १९६३ की धारा () के अंतर्गत अपने सभी दस्तावेजों को हिंदी एवं अंग्रेजी दोनों भाषाओँ में जारी करता है | यह विद्यालय अपने कर्मचारियों के हिंदी में कार्य करने की समर्थता की स्थिति में होने के कारण भारत सरकार के राजपत्र में अधिसूचित भी है | साथ ही राजभाषा विभाग की सूचना प्रबंधन प्रणाली से भी जुड़ा है |

विद्यालय की सभी मुहरें द्विभाषी हैं | सभी सूचनापट एवं नामपट्ट द्विभाषी प्रारूप में हैं | विद्यालय के लगभग सभी कंप्यूटरों में यूनिकोड सक्रीय है | कार्यालय में उपयोग किये जाने वाले सभी फॉर्म भी द्विभाषी रूप में ही प्रयुक्त होते हैं | विद्यालय को हिंदी में प्राप्त होने वाले पत्रों का उत्तर अनिवार्यतः हिंदी में ही दिया जाता है | विद्यालय नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति का सक्रीय सदस्य है, तथा इसके द्वारा आहूत सभी बैठकों में अनिवार्यतः भाग लेता है | विद्यालय राजभाषा प्रयोग के क्षेत्र में आता है, अतः 55% हिंदी पत्राचार की सम्यक स्थिति को प्राप्त है | विद्यालय में सप्ताह में तीन दिन प्रार्थना सभा के सभी कार्यक्रम हिंदी भाषा में आयोजित किये जाते हैं | पाठ्य-सहगामी गतिविधियों का अधिकाधिक आयोजन हिंदी भाषा में ही किये जाने का नित प्रयास किया जाता है, ताकि छात्रों में व्यावहारिक स्तर पर हिंदी भाषा के प्रति रुचियों का विकास हो | इसी का परिणाम है कि 31 जनवरी 2017 को एच..एल. सुनावेड़ा में आयोजित नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति की बैठक में केन्द्रीय विद्यालय कोरापुट को जिले में स्थित सभी सरकारी संस्थानों में राजभाषा के श्रेष्ठतम अनुप्रयोग हेतु सम्मानित किया गया है |